Tag Archives: Hindi

“On March 12, Rahul Sharma, superintendent of police, Bilaspur, shot himself in the head with his service revolver”

Javed Iqbal’s column on Rahul Sharma’s death:

Death, in Dantewada, moves in circles, and only the ghosts know the end of the war. There was once a casual story about SP Rahul Sharma, who met Arundhati Roy and filmmaker Sanjay Kak when they were in Dantewada. He would tell Roy that he was an avid reader of her work when he was in JNU, and would say, like a market economist would concur, ‘Peace would come to Dantewada if the adivasis would be taught greed.’

I wish I knew Rahul Sharma a lot better now, and I wish I could’ve asked him what he learnt from the adivasis.

Read the full piece here.

********************************************

Himanshu Kumar’s heartfelt post to Rahul Sharma here. (in Hindi)

राहुल शर्मा जब दंतेवाड़ा में एस.पी. थे तब हम हफ्ते में एक बार जरुर मिलते थे | जब सलवा जुडुम द्वारा जला दिये गये नेन्द्रा गांव को हमारी संस्था ने दोबारा बसाया| तब हमने तो एक गांव बसाया पर उसे देखकर आस-पास के गांव भी बसने लगे | हमारे आदिवासी कार्यकर्ताओ ने नक्सलियों से कहा कि यदि अब इन दोबारा बसाये गये गांवों में कोई हिंसक वारदात होती है तो आदिवासियों की जिंदगी फिर बिखर जायेगी | इसके बाद अगले छह महीने तक नक्सलियों की ओर से कोई कार्यवाही नहीं की गई | मैं राहुल शर्मा से लगातार सम्पर्क में था | मैंने उन्हें समझाया कि देखिये आपने हमें इन गांवों को दोबारा बसने देने में रोड़ा नहीं अटकाया तो इसके फलस्वरूप पिछले छह महीने में आपके एक भी जवान की जान नहीं गई | […]

Read the full post here.

****************************************

Here’s a short documentary in which Rahul Sharma (among others) gives a short interview.

Tagged , , , , ,

Coverage of the Feb. 29th Hunger Strike/Protest Demonstration in Solidarity for Soni Sori

From The Hindu

Hunger strike in support of Sori

Demanding immediate medical care for Chhattisgarh primary school teacher Soni Sori, women’s groups and rights activists sat on a day-long hunger strike at Raj Ghat here on Wednesday. The police in the Central Indian State have alleged that Ms. Sori was involved in the channelling of funds from a multi-national company to the Communist Part of India (Maoist). Activists alleged that the Adivasi school teachers was “sexually tortured by the Chhattisgarh police.”

Read the full article here.

From BBC Hindi

सोनी सोरी के समर्थन में भूख हड़ताल

उनके समर्थन में बेंगलूरु, भोपाल, जयपुर, मुंबई और अमरीका के सैन फ़्रांसिस्को और बोस्टन शहरों में भी ऐसी हड़तालें आयोजित की गईं.

इससे जुड़ी ख़बरें प्रताड़ना के आरोपी अधिकारी को पुलिस पदक पर विवाद ‘आदिवासी महिला के साथ हिरासत में प्रताड़ना’
‘मृत आदिवासी को प्रताड़ित किया गया’ इसी विषय पर और पढ़ें भारत महिला संगठन, सहेली (विमेन अगेंस्ट सेक्श्यूल वायलेंस एंड स्टेट रिप्रैशन) की एक प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक हाल ही में सोनी सोरी ने जेल से लिखे गए पत्रों में ज़िक्र किया था कि उनका स्वास्थ्य लगातार गिरता जा रहा है और उन्हें दर्द और रक्तस्राव हो रहा है.

Read the whole article here.

Tagged ,

Soni Sori’s Health Failing (Hindi)

There is a (as far as I could gather) protest fast planned on the 29th at Rajghat.

सोनी सोरी की प्राण रक्षा हेतु उपवास

जेल मे सोनी सोरी का स्वास्थ्य गिरता जा रहा है ! सर्वोच्च न्यायलय मे सोनी सोरी के द्वारा पुलिस पर लगाये गये बर्बरता के आरोपों की पुष्टि मेडिकल रिपोर्ट द्वारा हो गयी है ! डाक्टरों ने सोनी सोरी के शरीर मे पुलिस द्वारा ठूंसे गये पत्थर निकाल कर सुप्रीम कोर्ट को भेज दिये हैं ! इसके बावजूद अभी तक आरोपित पुलिस अधिकारियों के विरुद्ध कार्यवाही का निर्देश नहीं दिया गया है ! सोनी के गिरते स्वास्थ्य के बावजूद उसके इलाज की उसकी प्रार्थना की सुनवाई को लगातार टाला जा रहा है !

हम सभी नागरिक इस अमानवीय रवैय्ये से बेहद दुखी हैं ! हम सोनी सोरी के पक्ष मे अपनी एकजुटता व्यक्त करने और इस अन्याय के विषय मे ध्यान आकर्षित करने के लिये राजघाट पर 29 फरवरी बुधवार को एक दिन का सांकेतिक उपवास करेंगे ! सभी साथी साथ आयें ! अनेकों महिला संगठनों ने इस कार्यक्रम हेतु अपनी एकजुटता दर्शाई है !

Read the whole piece here.

An English Translation can be found here.

Delhi – Fast at Rajghat in solidarity with Soni Sori, Feb 29

February 28, 2012

Fast to Save Soni Sori’s Life

Note from Himanshu Kumar

Soni Sori’s health is deteriorating in jail. The accusations of police brutality and torture made by her in the Supreme Court have been substantiated by the the medical report. The doctors have sent the Supreme Court stones that the police had forced into Soni’s body. Despite this, thus far there have been no orders to take action against the accused police officers. And in spite of her failing health, hearings on her appeal for treatment are continually being postponed.

All of us, citizens of India, are extremely saddened by this inhuman attitude. We will undertake a one-day symbolic fast on Wednesday, the 29th of February at Rajghat to show solidarity with Soni Sori and to call attention to the injustice being meted out to her. Please join us! Several women’s organizations have expressed their solidarity with our fast. The fast will take place from 6am to 6pm. You are also invited to come and join the dialog at any point in the day, at your inconvenience.

We also hope that friends elsewhere in the country as well as abroad are able to organize events on this day to demand justice for Soni Sori. This program should also been seen as a general protest against sexual assaults and torture committed against women in police custody.

(Translated by Amit Basole)

Tagged , ,

[Dantewada Vani] This is Lingaram Kodopi Speaking From Jail (in Hindi)

An English translation is currently unavailable for this.

तुमने मुझे धकेल दिया जेल की कोठरी के अँधेरे में,
क्योंकि राष्ट्रपति भवन के,
विशालकाय गणतंत्र के गुम्बद पर
चमचमाता हुआ प्रकाश पुंज,
मेरी ही जमीन छीनकर बनाये गये,
बिजलीघर में तैयार बिजली से दमदमाता है ,
मेरी आजादी को खतरा बताया गया,
गणतन्त्र के उस विशालकाय गुम्बद के
बल्ब की रौशनी के लिये,
पुलिस की कितनी लाठियां टूटी मुझपर,
अब याद नहीं,
मार खाते हुए रोने का विकल्प नहीं था मेरे सामने ,
क्योंकि मेरी आँखों के आंसू
ताड़मेटला गाँव में थाने से बलात्कार होकर लौटी
लड़की की कहानी सुनने के बाद,
बहकर समाप्त हो चुके थे,
सिर्फ खून उतर आया था मेरी आँखों में पुलिस से पिटते समय,
लोकतांत्रिक मर्यादाओं की रक्षा के लिये ,
सभ्य लोगों को जरूरी लगता है ,
हमे लगातार हमारी हैसियत का
अहसास कराते जाना,
और हमारी औरतों के शरीर में ,
तुम्हारे राष्ट्र का पौरुष,
और कंकड,पत्थर भर दिये जाना ,
उस रात तुमने मेरी बुआ सोनी सोरी को नहीं
अपने लोकतन्त्र को नंगा किया था थाने में,
[…]

Read the full post here.

Tagged ,

[Breaking News] From Himanshu Kumar’s FB Status: Sukhnath Oyami Released! (in Hindi)

मानवाधिकार कार्यकर्ता सुखनाथ ओयामी को आज दंतेवाड़ा जिला अदालत ने बाइज्ज़त बरी कर दिया! सुखनाथ ओयामी हमारे साथ उजड़े हुए गांव को बसाने का काम कर रहे थे ! २८ अगस्त २००९ को जब सुखनाथ निर्दोष ग्रामीणों को थाने में बेवजह पकड़ लिये जाने पर बात् करने थाने में गये तो उन्हें भी पकड़ कर जेल में डाल दिया गया था ! उन पर काला कानून छत्तीसगढ़ जन सुरक्षा अधिनियम लगा कर उन्हें नक्सली कहा गया ! और कहा गया कि इनके पास से बम मिला है ! हांलाकि अदालत में सारे गवाहों ने कहा कि पुलिस झूठ बोल रही है !आज अदालत ने सरकार द्वारा उन पर लगाए गये सारे आरोपों को बे-बुनियाद मानते हुए सुखनाथ ओयामी को स-सम्मान रिहा कर दिया!

From Frontline Defenders (dated Dec 2009)

The detention of Kopa Kunjam and Alban Toppo follows the arrest on 31 July 2009 of Sukhnath, a VCA volunteer, who was abducted by members of a state-backed militia and detained under the Chhattisgarh Special Public Security Act. He remains in detention without trial, and his bail applications have been rejected on two separate occasions.

Tagged , , , ,

[Protest] Protest Planned for the Release of Soni Sori (in Hindi)

दखल विचार मंच की पूर्वनिर्धारित बैठक आज फूलबाग स्थित गाँधी प्रतिमा के पास हुई. इसमें निम्नलिखित निर्णय लिए गए.

१- आगामी शनिवार, १८ फरवरी को फूलबाग गेट पर शाम ३ बजे से ५ बजे तक सोनी सोरी की रिहाई तथा उनका उत्पीडन करने वाले पुलिसकर्मी के पुरस्कार पर पुनर्विचार की मांग के साथ धरना दिया जाएगा. इसमें ग्वालियर के विभिन्न संस्कृतिकर्मी, साहित्यकार, ट्रेड युनियन कर्मी और बुद्धिजीवियों सहित आम जन की भागीदारी होगी.

Translation: This following Saturday on February 18 from 3 pm to 5 pm at the Fulbag Gate, there will be a protest for the Release of Soni Sori. There is a demand for the prosecution of the police and to reconsider the award given to him. The general public’s participation is requested.

Read the full piece here.

Tagged ,

[Ashok Kumar Pandey] What Did Soni Sori Do Wrong? (in Hindi)

सोनी सोरी की कहानी अब कोई नई कहानी नहीं रही. न यह उस दिन शुरू हुई थी जब उन्हें पुलिस के दबाव में दंतेवाड़ा छोड़कर भागना पड़ा था, न उनके किसी अंजाम पर खत्म हो जायेगी. लोकतंत्र के आवरण तले चलने वाली दमन और उत्पीडन की यह कहानी अलग-अलग रूप में लगातार दुहराई गयी है और आज भी यह बदस्तूर जारी है. महानगरों के आरामदेह कमरों में बैठकर हम विकास को आंकड़ो की भाषा से पकडने की कोशिशें करते हुए नए-नए माल्स और उपभोक्ता वस्तुओं की चमक से चुंधियाई आँखों से सत्ताओं के बदलने और आभासी आन्दोलनों के घटाटोप के इतने आदी होते जा रहे हैं कि देश के एक बड़े हिस्से के लगातार यातना-गृह में तबदील होते जाने को देख ही नहीं पाते. विदर्भ और बुंदेलखंड सहित देश के तमाम हिस्सों में लगातार खुदकुशी करते किसान, फैक्ट्रियों में बिना किसी सामाजिक या आर्थिक सुरक्षा के सोलह-सोलह घंटे खटते मजदूर, निजी कंपनियों के जुए तले पिसते तथाकथित प्रोफेशनल्स, उत्तर-पूर्व में अमानवीय कानूनों का बोझ ढोते लोग और छत्तीसगढ़ के नक्सल-प्रभावित इलाकों में दोहरी-तिहरी मार झेलते आदिवासी हमारी इस समकालीन विकास की बहस से बाहर की चीज़ बनते चले जा रहे हैं. न टीवी चैनल्स के लिए इनके पास कोई ‘एक्सक्लूसिव बाईट’ है न ही अखबारों के तीसरे पेज़ के लिए खबरें या पहले पेज़ के लिए विज्ञापन. वरना यूँ न होता कि इस देश में किसी जगह एक महिला के साथ कोर्ट के सख्त निर्देशों के बावजूद वह अमानवीय उत्पीडन होता जो सोनी सोरी के साथ हुआ और इसके ज़िम्मेदार पुलिस वाले को सज़ा की जगह महामहिम पुरस्कार न देतीं, वरना कोई चुनी हुई सरकार किसी गाँधीवादी के आश्रम को यूँ ज़मीदोज न कर देती, वरना इतना सब हो जाने के बाद भी इस देश में इतनी चुप्पी न होती.

Read the full article here.

Tagged ,
%d bloggers like this: